Loading...

रविवार 14 जुलाई को आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 का फाइनल मुकाबला लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेला गया। इस बड़े मुकाबले में मेजबान इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर 44 साल बाद विश्व कप खिताब पर कब्जा किया।

विश्व कप इतिहास में पहली बार फाइनल मुकाबला टाई हुआ और सुपर ओवर से विजेता टीम घोषित हुई। पहले बल्लेबाजी करते हुए केन विलियमसन की टीम न्यूजीलैंड ने 241 रन बनाए थे। जवाब में इंग्लैंड की टीम भी 241 रन ही बना पाई। बेन स्टोक्स ने 84 रनों की शानदार पारी खेली जिसकी बदौलत मैच टाई हुआ। सुपर ओवर में इंग्लैंड ने 13 रन बनाए जबकि न्यूजीलैंड ने भी 13 रन बनाए। परन्तु सर्वाधिक बॉउंड्री के इंग्लैंड टीम को जीत हासिल हुई।

इस रोमांचक मुकाबले में दोनों टीमों ने काबिले तारीफ प्रदर्शन किया। न्यूजीलैंड टीम भले ही मैच हार गई हो परंतु उन्होंने सबका दिल जीत लिया।

फाइनल हारने के बाद बोले केन विलियमसन

पिच ड्राई वाली तरफ थी, हमने सोचा कि बोर्ड पर रन लगाना एक अच्छा कार्य होगा। हमें 10-20 रन अधिक बनाने चाहिए थे, जिससे मैच में अधिक रोमांच आता। लेकिन विश्व कप के फाइनल में यह स्कोर प्रतिस्पर्धी टोटल था। गेंदबाजों ने वास्तव में एक कठिन सतह पर बल्लेबाजों को दबाव में रखा। दोनों टीमों ने काफी संघर्ष दिखाया। इसे आखिरी गेंद तक जाना था और फिर अगले छोटे मैच की आखिरी गेंद थी। परंतु यह एक शानदार मैच हुआ, हमारे लिए ये बहुत सकारात्मक है।’

नीशम और गुप्टिल, दोनों ने गेंद को बहुत मुश्किल से मारा। छोटी सीमा को देखते हुए, बाएं हाथ के दाहिने हाथ का संयोजन सुपर ओवर में उपयोगी था। लेकिन इस तरह के छोटे मार्जिन से लड़े गए मैच की आलोचना करना अनुचित है। यह शर्म की बात थी कि गेंद बेन स्टोक्स के बल्ले से टकराई। लेकिन मुझे उम्मीद है कि ऐसा कुछ क्षणों में नहीं होगा। दुर्भाग्य से समय-समय पर ऐसा होता है। यह उस खेल का एक हिस्सा है, जिसे हम खेलते हैं। मैं नाइटपिक की इच्छा नहीं करता बस आशा करता हूं कि यह ऐसे क्षणों में फिर कभी न हो।’

Loading...