वर्ल्ड कप में शतक जड़ने वाले इस खिलाड़ी ने अचानक क्रिकेट को कह दिया अलविदा था

जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज ब्रैंडन टेलर ने क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। उनके इस घोषणा के साथ ही 17 साल का उनका क्रिकेट करियर रूक गया। टेलर सोमवार को आयरलैंड के खिलाफ बेलफास्ट में होने वाले तीसरे वनडे में अपना अंतिम इंटरनेशनल मुकाबला खेलेंगे। टेलर ने सोशल मीडिया पर संन्यास लेने का ऐलान किया। उन्होंने अपने  करियर में अबतक 34 टेस्ट, 204 वनडे और 45 टी20 इंटरनेशनल मुकाबले खेले हैं। टेलर ने 2004 में जिम्बाब्वे के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था।

ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक, टेलर ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा, ‘ मैं काफी भारी दिल के साथ यह ऐलान कर रहा हूं कि कल का मैच मेरे प्यारे देश के लिए मेरा आखिरी मैच है। 17 साल के करियर के दौरान मुझे काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिले। इससे मुझे काफी कुछ सीखने का भी मौका मिला।

T20 World Cup: रातों-रात ऐसा क्या हुआ कि टीम इंडिया को मेंटर की जरूरत पड़ गई?

मैंने अपने आपको यही याद दिलाया कि मैं कितना भाग्यशाली हूं कि मुझे इस लेवल पर इतने लंबे समय तक खेलने का मौका मिला। मैंने काफी गर्व के साथ टीम का बैज पहना। मेरा लक्ष्य हमेशा ही टीम को बेहतर पोजिशन में ले जाने पर रहा। मैं खुश हूं कि मैं ऐसा करने में कामयाब रहा’

 

वह 2011 से 2014 तक टीम के कप्तान भी रहे। 2015 के वर्ल्ड कप में वह जिम्बाब्वे के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थी। उन्होंने साथ ही इसी वर्ल्ड कप में भारत के खिलाफ शानदार शतक जड़ा था जब उन्होंने 138 रनों की शतकीय पारी खेली थी। भारत ने उस मैच में जिम्बाब्वे को 6 विकेट से हराया था। टेलर ने 2015 वर्ल्ड कप के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले लिया था, लेकिन कोल्पैक डील के तहत वो नाटिंघमशायर के लिए काउंटी क्रिकेट खेल रहे थे। उन्होंने जिम्बाब्वे के लिए 204 वनडे मैचों में 6677 रन बनाए हैं।