IPL 2021: 5 साल कप्तानी और टीम को आईपीएल चैंपियन बनाने वाली इस खिलाड़ी की नहीं रही कद्र, पानी पिलाने को मजबूर

डेविड वॉर्नर (David Warner) के लिए IPL 2021 में कुछ भी सही नहीं हो रहा है. सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) का कप्तान रहते हुए उनका बल्ला भी नहीं चला और टीम को छह में से पांच मैचों में हार मिली. ऐसे में कप्तानी छीन ली गई. फिर राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में प्लेइंग इलेवन से छुट्टी हो गई. इतना ही नहीं मैच के दौरान डेविड वॉर्नर टीम के खिलाड़ियों को मैदान पर पानी पिलाते दिखे. सनराइजर्स हैदराबाद के रिजर्व खिलाड़ियों वाली जर्सी में वे मैदान में टीम के के लिए पानी ले जाते दिखे. वहीं सनराइजर्स हैदराबाद के क्रिकेट निदेशक टॉम मूडी ने कहा कि प्लेइंग इलेवन से बाहर करने से डेविड वॉर्नर हैरान और निराश हैं. मूडी ने उन्हें बाहर करने के फैसले का बचाव किया. उन्होंने कहा कि किसी को तो बाहर करना था और इस बार वॉर्नर की ही बारी थी.

आईपीएल 2021 मे वॉर्नर की अगुआई में सनराइजर्स ने मौजूदा सत्र में छह में से पांच मैच गंवाए हैं. साथ ही उनके बल्ले से रन भी नहीं निकल रहे थे. इस वजह से टीम की जिम्मेदारी केन विलियमसन को सौंप दी गई. वॉर्नर के आईपीएल करियर में यह पहला मौका है जब खराब फॉर्म के कारण किसी फ्रेंचाइजी ने उन्हें टीम से बाहर किया है. वॉर्नर आईपीएल 2015 में सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान बने थे. तब से उन्होंने 69 मैचों में कप्तानी की और हैदराबाद को 35 मैच जिताए और 32 में हार मिली. उनकी कप्तानी में ही टीम ने 2016 में पहली बार आईपीएल खिताब जीता था.

सनराइजर्स हैदराबाद की प्लेइंग इलेवन से बाहर होने के बाद डेविड वॉर्नर टीम के लिए एक्स्ट्रा की ड्यूटी पर रहे.

मूडी बोले- प्लेइंग इलेवन से बाहर जाने पर हैरान हुए वॉर्नर

वहीं वॉर्नर को प्लेइंग इलेवन से बाहर करने के बारे में मूडी ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच से पहले स्टार स्पोर्ट्स से कहा, ‘हमें कड़ा फैसला करना था, किसी को टीम से बाहर होना था और दुर्भाग्य से यह वह था. वह स्तब्ध और निराश है. कोई भी निराश होगा.’

बाएं हाथ के इस सलामी बल्लेबाज द्वारा मनीष पांडे को अंतिम एकादश से बाहर किए जाने के फैसले की आलोचना किए जाने के बाद वॉर्नर और मूडी के बीच रिश्ते अच्छे नहीं हैं. मूडी ने कहा, ‘उसे इस तर्क को स्वीकार करना होगा कि हम फ्रेंचाइजी के नजरिए से क्या हासिल करना चाहते हैं. मुझे नहीं लगता कि अतीत में जो हुआ वह अधिक मायने रखता है और पिछले 24 से 48 घंटे में हमने कुछ अहम बदलाव किए हैं.’