Loading...

भारतीय सेना ने बयान में कहा है कि भारतीय और चीनी सैनिकों ने गालवान क्षेत्र को खाली कर दिया है, जहां वे 15/16 जून की रात को भिड़ गए थे। उस दौरान 17 भारतीय सैनिक ड्यूटी करते हुए गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिनकी ऊंचाई वाले इलाकों में शून्य से कम तापमान के कारण मौत हो गई। इस कार्रवाई में कुल 20 जवान मारे गए। भारतीय सेना राष्ट्र की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध है।  

लद्दाख के गलवान घाटी में सीमा पर भारत-चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में भारत के कम से कम 20 जवान शहीद हुए हैं। भारतीय सेना ने बयान जारी कर इसकी पुष्टि कर दी है। कहा जा रहा है कि चीन के भी 43 सैनिक या तो मारे गए हैं या गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। सीमा पर अभी भी तनाव बरकरार है।

इस घटना के बाद चीनी विदेश मंत्रालय का आधिकारिक बयान भी सामने आया. बीजिंग ने उलटे भारत पर घुसपैठ करने का आरोप लगाया. अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, बीजिंग का आरोप है कि भारतीय सैनिकों ने बॉर्डर क्रॉस करके चीनी सैनिकों पर हमला किया था. चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि भारत ऐसी स्थिति में एकतरफा कार्रवाई ना करे.

Also Read  सौरव गांगुली ने दिया इशारा, इस देश में कराया जा सकता है IPL 2020
Loading...