Loading...

न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबला हारकर भारतीय टीम विश्वकप से बाहर हो गयी है, हालांकि इस मैच में भारतीय टीम के लिए रविंद्र जडेजा और महेंद्र धोनी खूब लड़े, धोनी तो आखिरी तक अपने अंदाज में लड़ते रहे और धोनी अपने ही अंदाज में जीत भी दिलाते, मगर मैच के आखिरी क्षण में भारत के साथ हो गयी बड़ी धोखेबाजी, या फिर ऐसा कहे की अंपायरों ने इस नॉक आउट मुकाबले में बहुत ही बड़ी गलती कर दी, जिस पर अब पूर्व दिग्गज खिलाड़ी बुरी तरह से भड़क गए है.

तो भारत को आखिरी 2 ओवर में 31 रनों की जरुरत थी और 49वें ओवर की पहली ही बॉल पर धोनी ने बड़ा छक्का मार दिया, इस छक्के के बाद न्यूजीलैंड ने फील्डिंग में बदलाव किया, पहली बॉल पर जहा 4 खिलाड़ी 30 यार्ड घेरे के अंदर थे, लेकिन जैसे ही धोनी ने पहली बॉल पर छक्का लगाया तो, फील्डिंग चेंज हुई, जिसके बाद सिर्फ 3 खिलाड़ी ही 30 यार्ड घेरे के अंदर रह गए.

मतलब ये नो बॉल होती, क्योकि आखिरी के 41-50 ओवर में 4 खिलाड़ी को 30 यार्ड घेरे के अंदर रखना अनिवार्य है, अगर ऐसा न हुआ तो नो बॉल करार दी जाती है और इस प्रकार की नो बॉल पर किसी भी प्रकार का आउट नहीं दिया जाता, यहाँ तक की रन आउट भी नहीं, मगर अंपायर ने इसे देखा तक नहीं, ये अंपायर ने जानबूझकर किया या फिर गलती से हुआ, ये तो नहीं कह सकते.

लेकिन इतना जरूर है की अगर ये नो बॉल हो जाती तो धोनी आउट होने से बच जाते, साथ ही साथ नो बॉल का 1 रन एक्स्ट्रा और फ्री हिट भी मिलता, मगर अंपायरों की गलती की वजह से धोनी को गलत आउट दिया गया, नतीजा ये निकला की भारतीय टीम हार गयी और इस प्रकार से भारतीय टीम विश्वकप से बाहर हो गयी, अंपायर की इस गलती पर भड़कते हुए दिग्गज सुनील गावस्कर ने अंपायरिंग पर सवाल उठाए है और ICC से इसे देखने की मांग की है.

Loading...