Loading...

आपको क्रिकेटर लक्ष्मीपति बालाजी की बॉलिंग याद तो होगी। जी हां वही बालाजी जिन्होंने अपनी गेंदबाजी से भारत ही नहीं विदेशियों का भी दिल जीत लिया था। वह पाकिस्तान दौरे पर गई टीम इंडिया का भी हिस्सा रह चुके हैं, बालाजी अपनी गेंदबाजी से पाकिस्तानियों का भी दिल जीत चुके हैं। बालाजी अपनी मासूम मुस्कुराहट और साधारण स्वभाव के कारण अपने फैंस के बीच काफी लोकप्रिय हैं। बालाजी आजकल बॉलिंग मैंटर और कंसलटेंट की भूमिका निभाते हैं। इसके अलावा बालाजी चेन्नई सुपर किंग्स का हिस्सा भी रह चुके हैं। हालांकि, बालाजी अब सुपरकिंग्स में खिलाड़ी के रूप में हिस्सा नहीं ले पाए। लेकिन, वह टीम के साथ मुख्य रूप से जुड़े हुए हैं।

बालाजी का टीम इंडिया की तरफ बहुत कम खेले, लेकिन, अपने खेल ओर स्वभाव से सबका दिल जीतने में कामयाब रहे। बालाजी का जन्म 27 सितम्बर 1981 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ था। बालाजी दाहिने हाथ तेज मध्यम गेंदबाज है। उन्होंने नवंबर 2016 में फस्र्ट क्लास क्रिकेट और लिस्ट ए क्रिकेट से सन्यास की घोषणा की थी। इन्होंने 2018 इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स टीम की गेंदबाजी कोचिंग की थी।

लक्ष्मीपति बालाजी तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले के उठुकाडू गांव से हैं और यहीं उनका जन्म हुआ था। बालाजी ने क्रिकेट करियर की शुरुआत भी तमिलनाडू राज्य से की थी। बालाजी 2008 से 2010 तक इंडियन प्रीमियर लीग में अपनी घरेलू टीम चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेले थे। जिसमें इन्होंने आईपीएल की पहली हैट्रिक का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है । इसके अलावा बालाजी 2011 से 2013 तक ये कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेले। इन्होंने अपने पूरे आईपीएल कैरियर में 73 मैचों में 76 विकेट लिए।

Loading...