Loading...

क्रिकेट विश्व के सबसे ज्यादा पसंद किये जाने वाले खेलो में एक हैं. क्रिकेट की लोकप्रियता भारत में सबसे अधिक हैं. क्रिकेट के सबसे बड़े महाकुम्भ आईसीसी विश्व कप के सेमीफाइनल में भारतीय टीम हारकर बाहर हो गई थी. विश्व कप के इस सीजन में भारतीय टीम को सबसे बड़ा विश्व कप का दावेदार माना जा रहा था. लेकिन आखिरी मौके पर सेमीफाइनल में भारत को न्यूजीलैंड की टीम से हार का सामना करना पड़ा.

भारतीय टीम जो विश्व कप-2019 की प्रबल दावेदार थी, जिसने वर्ल्डकप में सबसे ज्यादा मैच जीतकर अंक तालिका में पहला स्थान प्राप्त किया था, उसी भारतीय टीम को सेमीफइनल में एक शर्मनाक हार का सामना कर विश्व कप -2019 से बाहर होना पड़ा था.

विश्व कप गँवाने के बाद फिर एक बार भारतीय टीम के मध्यक्रम बल्लेबाजी कमजोरी सामने आई थी, जिसके बाद लगा कि शायद अब चयनकर्ता मध्यक्रम बल्लेबाजी पर ध्यान देंगे लेकिन वेस्टइंडीज दौरे के लिए घोषित की गई भारतीय टीम को देखने के बाद ऐसा लग रहा है कि अब भी चयनकर्ता भारतीय टीम की मुख्य कमजोरी की तरफ ध्यान दे ही नहीं दे पा रहे हैं और एक बार फिर वही बड़ी गलती कर रहे हैं.

वेस्टइंडीज का दौरे पर 8 अगस्त से शुरू होने वाला हैं. वहन भारतीय टीम तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए घोषित कर दी है जिसमें एक बार फिर सारी जिम्मेदारी टॉप आर्डर ही संभालता दिख सकता है क्योंकि मध्यक्रम बल्लेबाजी जो भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी साबित हुई है उसपर कोई ध्यान नही दिया गया हैं.

भारतीय चयनकर्ताओ ने एक बार फिर मध्यक्रम के लिए मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर जैसे उन खिलाड़ियों का चयन किया है जो हमेशा ही टॉप आर्डर में बल्लेबाजी करना पसंद करते हैं. इसके अलावा केदार जाधव के चयन पर तो कई दिग्गज क्रिकेटरों ने भी एतराज उठाया है. उनका मानना है कि चयनकर्तओं को अब आने वाले विश्वकप को मद्देनजर रखते हुए खिलाड़ियों का चयन करना चाहिए था लेकिन टीम देखकर लग रहा है जैसे वह बस इस वनडे सीरीज को जीतना चाहते हैं.

Loading...