जब भारत ने ठोके थे 726 रन, तिहरा शतक बनाने से चुका था यह क्रिकेटर, नाम जानकर चौंक जाएंगे

टेस्ट क्रिकेट में ओवरों की गिनती नहीं होती है इसलिए काफी बड़े-बड़े स्कोर देखने को मिलते हैं। इसी संदर्भ में हम आज बात करेंगे साल 2009 में 2 से 6 दिसंबर के बीच श्रीलंका और भारत के मध्य खेले गए टेस्ट मैच बारे में इस मैच में भारतीय टीम ने टेस्ट क्रिकेट में अपना दूसरा सर्वाधिक स्कोर बनाया था।

भारत और श्रीलंका के बीच तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा टेस्ट मुकाबला मोहाली में खेला गया था। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए अपनी पहली पारी में तिलकरत्ने दिलशान के 109 और एंजेलो मैथ्यूज के 99 रनों की बदौलत 393 रन बनाए। भारत के लिए हरभजन सिंह 4 और प्रज्ञान ओझा ने 3 विकेट चटकाए थे।

भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 9 विकेट के नुकसान पर 726 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी। मुरली विजय 87, राहुल द्रविड़ 74, सचिन तेंदुलकर 53, वीवीएस लक्ष्मण 62, युवराज सिंह 23, महेंद्र सिंह धोनी नाबाद 100 रनों की पारी खेली थी।

तिहरे शतक से चूक गए थे सहवाग

इस मैच में सहवाग ने सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरी थी। सहवाग ने श्रीलंकाई गेंदबाजों की जमकर धुनाई की। उन्होंने 254 गेंदों का सामना करते हुए 40 चौकों तथा 7 छक्कों की मदद से 293 रनों की पारी खेली थी। सहवाग सिर्फ 7 रन से तिहरा शतक बनाने से चूक गए थे। श्रीलंका के लिए मुथैया मुरलीधरन 4 और रंगना हेराथ ने 3 विकेट चटकाए थे।

अपनी दूसरी पारी में श्रीलंका की टीम 309 रन बनाकर आल आउट हो गई और इस तरह से भारतीय टीम पारी और 24 रन से मैच में जीत दर्ज की थी। दूसरी पारी में श्रीलंका के लिए कुमार संगकारा ने सबसे अधिक 137 रन बनाए थे। भारत के तरफ से जहीर खान 5 और हरभजन सिंह-प्रज्ञानओझा को 2-2 विकेट मिले थे।

आज भी क्रिकेट फैंस को सहवाग की वह विस्फोटक पारी याद है। सहवाग की बल्लेबाजी जिसने भी देखा वह मंत्रमुग्ध रह गया था। वीरेंद्र सहवाग को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज के खिताब से नवाजा गया था।