अफरीदी से हो जाती इस भारतीय बल्लेबाज की हाथापाई, अंपायर ने किया था बीच बचाओ

भारतीय क्रिकेट टीम वैसे की सभ्यता और शालीनता की तारीफ पूरी दुनिया करती है। लेकिन, कुछ मौके ऐसे आये जब भारतीय टीम के कई क्रिकेटर पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के खिलाडिय़ों से भिड़ते हुए देखे गए। अगर भारतीय खिलाडिय़ों में देखा जाए तो सबसे ज्यादा विवाद गौतम गंभीर के पाकिस्तान खिलाडिय़ों के साथ मैदान पर देखे गए। लेकिन, बीच बचाव के चलते मसले को सुलझा लिया गया। गौतम गंभीर और शाहिद अफरीदी के बीच 2007 में भारत और पाकिस्तान के बीच चल रही वनडे सीरीज के तीसरे वनडे में यह विवाद हुआ। अफरीदी ने गेंदबाजी की कमान संभाल रखी थी ओर उनके सामने गौतम गंभीर गेंदबाजी कर रहे थे। तभी अफरीदी की गेंद पर गौतम गंभीर ने चौका जड़ दिया।

चौका जडऩे के बाद गंभीर जोश में आ गए और उन्होंने अफरीदी की तरफ करते हुए कुछ बोला जिसके बाद अफरीदी और गंभीर के बीच बहुत तेज बहस हो गई। हालांकि, अम्पायर और अन्य खिलाडिय़ों ने बीच बचाव कर मामला शांत कर दिया। अफरीदी और गंभीर के बीच बहुत पहले से ही स्लेजिंग का सिलसिला चल रहा था। गौतम गंभीर के पिता दीपक गंभीर एक कपड़ा व्यवसायी हैंं। गंभीर की एक बहन है, एकता, जो उनसे दो साल छोटी है।

गंभीर को उनके दादा-दादी ने उनके जन्म के अठारह दिन बाद गोद लिया था और तब से उनके साथ रहते थे। गंभीर नेअपनी स्कूली शिक्षा मॉडर्न स्कूल, नई दिल्ली से प्राप्त की और हिंदू कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। गंभीर ने दिल्ली में लाल बहादुर शास्त्री अकादमी के संजय भारद्वाज और राजू टंडन से क्रिकेट का प्रशिक्षण लिया था। अपनी घरेलू टीम दिल्ली से गंभीर ने रणजी मैच खेले जबकि आईपीएल में उन्होंने दिल्ली डेयरविल्स के लिए लंबे समय तक खेला।