Loading...

के लिए काफी रोमांचक रहा, अब आप सोच रहे होंगे की विश्व कप खत्म हुए 1 हफ्ता हो गया उसके बाद भी विश्व कप की बात क्यों? पर हम आपको बताते हैं, कि विश्व कप दौरान अंबाती रायडू ने संन्यास की घोषणा ली थी. जो की भारतीय टीम के लिए सही नहीं था क्योंकि सभी को पता है की रायडू एक अनुभवी खिलाड़ी है, अगर उसको सेमीफाइनल में मौका दिया जाता तो वह पक्का से न्यूजीलैंड को धुल चटा देते, उनको लेकर पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने कही हैं यह बात.

चयन समिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद ने रविवार को रायडू के लिए दिया स्पष्टीकरण

टीम में शामिल नहीं किए जाने के कई अटकलों के बाद, चयन समिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद ने रविवार को स्पष्टीकरण दिया.

उन्होंने बताया की किन कारणों से शिखर और विजय के चोटिल होने के बाद इन दो युवा खिलाड़ियों को रायडू की जगह दी गई. प्रसाद ने बताया कि ऋषभ पंत और मयंक अग्रवाल दोनों को टीम प्रबंधन द्वारा बाएं हाथ के बल्लेबाज और सलामी बल्लेबाज के रूप में देखा गया था उस समय टीम को इनकी ही जरूरत थी.

मोहम्मद अजहरुद्दीन ने अंबाती रायडू को लेकर कही यह बात

प्रसाद ने तो अपनी बात साफ़ कर दी पर इसके बाद भी भारत के इस मामले पर अपनी राय देते हुए कहा कि चयनकर्ताओं ने वही किया जो उनको सही लगा है.

आगर उन्होंने कहा कि रायडू स्टैंडबाय खिलाड़ियों में से एक थे, लेकिन टूर्नामेंट के दौरान शिखर धवन और विजय शंकर के चोटिल होने पर भी उन्हें बुलाया नहीं गया था.

अजहर ने सोमवार को कहा की,

“जब कोई स्टैंडबाय खिलाड़ी होता है, तो उसे जब भी रिप्लेसमेंट की जरूरत होती है, उसे बुलाया जाना चाहिए. मैं समझता हूं कि टीम अन्य खिलाड़ियों को चाहती थी, लेकिन जब आप चयनकर्ता होते हैं, तो आपके पास कप्तान या कोच को हटाने का अधिकार होता है क्योंकि आप मालिक होते हैं.आप अपना पैर नीचे रख सकते हैं, और कह सकते हैं कि चयन समिति की पसंद का खिलाड़ी जाएगा. जब मैं कप्तान था, तो एक बार मुझे टीम में कुछ खिलाड़ी चाहिए थे, लेकिन चयनकर्ताओं ने कहा नहीं. यह बहुत दुखद है कि उनका चयन नहीं हुआ. मैं चयनकर्ता द्वारा दिए गए तर्क पर विश्वास नहीं करता.”

महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास के लिए भी मोहम्मद अजहरुद्दीन ने दिया तर्क

आज कल भारतीय क्रिकेट टीम की बात हो और माही न जिक्र न हो ऐसा होना तो नामुमकिन है. इस वजह से ही अजहर से भी धोनी के संन्यास को लेकर सवाल किये गए जिसके उत्तर में उन्होंने सटीक जवाब दिया है.

अजहर ने कहा कि धोनी को अपना स्वाभाविक खेल खेलना चाहिए. चयनकर्ताओं के लिए उन्होंने कहा कि वह सीधे धोनी से बात करे और उनको बताये की उनको आगे क्या करना चाहिए.

अजहर ने चयनकर्ताओं से कहा कि,

“चयनकर्ता इस दौरान उनके संपर्क में रहें. अगर वह फिट है और अच्छा खेल रहा है, तो उसे जारी रखना चाहिए. जब आप इतनी लंबी अवधि के लिए खेलते हैं, तो आप खेल में रुचि खो देते हैं. यदि वह 100 प्रतिशत इच्छुक है, तो उसे जारी रखना चाहिए.”

Loading...